ज़ोर ज़ोर से चोदो ना मुझे-1


Please Share this Blog:

sex stories in hindi: हाय दोस्तों मे एक 19 साल का गुड लुकिंग लड़का हूँ मे दिल्ली से हूँ ओर अभी-अभी Ist ईयर कम्प्लीट किया है रोज़ जिम जाने की वजह से मेरी बॉडी अच्छी है जिस पर कोई भी लड़की फिदा हो सकती है लेकिन अभी तक मेरी कोई गर्लफ्रेंड नही है लेकिन मे एक शर्मिला लड़का हूँ मे लड़की को कहने से डरता हूँ की वो मेरे बारे मे क्या सोचेगी इसकी वजह से मेरा इंटरेस्ट शादीशुदा आंटी मे हो गया ये मेरी फर्स्ट स्टोरी है ये मेरा पहला सेक्स जो आंटी के साथ कुछ दिनो पहले हुआ अगर लिखने मे कोई ग़लती हो तो प्लीज माफ़ करना हमारे घर मे 6 मेंबर है मेरे पापा,मम्मी, अंकल, आंटी में और उनकी लड़की जो अभी 3 साल की है.

अब मे अपनी आंटी के बारे मे बताता हूँ वो 25 साल की है और फेयर कलर, बड़ी बड़ी आँखे,नाइस बूब्स गुड फिगर वो उर्मिला जैसी दिखती है मेरे अंकल की शादी 6 साल पहले हुई थी तब मुझे सेक्स के बारे मे ज़्यादा पता नही था और मेरे कुछ ही फ्रेंड्स है लेकिन जब मे 12 वी क्लास मे आया तो मूठ मारने लगा ओर मे सेक्स की तलाश करने लगा मेरा माइंड उनकी और जाने लगा जब वो अपनी बेटी को दूध पिलाती थी तो मे उनके बूब्स देखता था ओर मेरा लंड खड़ा हो जाता था तब मेने सोचा की अगर उनको फंसा लो तो घर मे काम चल जायेगा वो पहले मेरे से फ्रेंक नही थी लेकिन जब मे बड़ा हुआ तो वो मुझसे मेरे दोस्तो के बारे मे पूछती थी की क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है लेकिन मे उन्हे मना कर देता था.
में उनको फंसाने के नये नये आइडिया ढूढ़ता था लेकिन वो मुझे कभी चान्स नही देती थी वो मुझे अपना बेटा जैसा मानती थी उनके दिल मे मेरे लिये सेक्स की कोई भावना नही थी मे आपको एक बात तो बताना भूल गया ये बात तब की है जब मेरे अंकल की शादी को कुछ ही दिन हुये थे मेरे अंकल के एक फ्रेंड हमारे घर आये थे वो सुन्दर है उससे मेरी आंटी छुप छुप के बाते करती थी तब मे छोटा था जिसकी वजह से मुझे ठीक से याद नही लेकिन एक दिन हमारे घर पर सिर्फ़ मे ओर मेरी आंटी थे उस दिन वो अंकल आये ओर मुझे खेलने जाने को बोला ओर मे खेलने चला गया लेकिन उस दिन कोई खेलने नही आया था तो मे जल्दी घर आ गया मेने देखा की बाहर का गेट खुला था.

मे अंदर गया तो देखा की अंदर से कुछ अजीब सी आवाज़े आ रही है ऊऊहह चोद दो मजा आ रहा है आ उई माआअहह उफफफ्फ़ दुख रहा है हाआअ थोड़ा धीरे करो मे अपनी आंटी के रूम की तरफ गया तो देखा की डोर लॉक था मेने दरवाजे से कान लगा कर सुना तो अंदर से आंटी की सिसकारियो की आवाज़े आ रही थी आहाहाः हाः हूहो हो आराम से अहहहह मुझे कुछ अजीब लग था मे उन्हे देखने के लिये रास्ता ढूढ़ने लगा तभी मुझे विंडो दिखी जिस पर पर्दा लगा था मेने आराम से पर्दा हटा कर देखा तो मे हैरान रह गया मेरी आंटी ओर वो अंकल दोनो नंगे बेड पर पड़े थे आंटी उपर थी ओर अंकल नीचे दोनो उल्टे पोज़िशन मे लेटे थे 69 पोजीशन में आंटी उनका लंड चूस रही थी ओर अंकल अपनी जीभ उनकी लाल चूत के अंदर डाले हुये थे मे यह देख के डर गया ओर वहा से भाग गया.

मैने आज तक वो बात किसी को नही बताई अब मे जब अपनी आंटी को चोदने के आइडिया ढूढ़ता था तो मुझे वो बात याद आई अब मैने सोचा की ये अच्छा आइडिया है उनको ब्लेकमेल करके चोदने का लेकिन मुझे कभी उनके साथ अकेले रहने का मौका नही मिलता था लेकिन फिर भी मे उन्हे नंगा देखने की कोशिश करता था एक दिन जब वो नहाने जा रही थी तो मे पीछे पीछे उनके टायलेट के पास गया उन्होने अंदर जाकर दरवाजा लॉक कर लिया मे दरवाजे के पास खड़ा होकर उन्हे दरवाजे के छेद से देखने लगा उन्होंने पहले अपनी साड़ी उतारी, उन्होने लाल ब्रा और सफ़ेद पेंटी पहनी थी मे उन्हे ब्रा ओर पेंटी मे देखकर शॉक हो गया मेरा लंड पूरा खड़ा होकर उपर नीचे होने लगा मुझे लगा की मेरी पेन्ट फट जायेगी मेने उसे एड्जस्ट किया अब उन्होने अपने दोनो हाथ पीछे ले जा कर अपनी ब्रा की स्ट्रीप खोल दी ओर अपनी बड़ी बड़ी चूची आज़ाद कर दी मे और भी पागल हुआ जा रहा था, वाउ! क्या चूचे थे मन कर रहा था की अभी उनको मुँह मे क़ैद कर लूँ और अपने दोनों हाथो से उन्हे मसल दूँ लेकिन ये मुमकिन नही था.
तभी उन्होने अपनी चूत को पेंटी के उपर से ही हाथ से सहलाया ओर बूब्स को अपने हाथो से दबाने लगी शायद उनको उस टाइम चूदने की इच्छा हो रही थी अब उन्होने अपनी पेंटी को झुक कर निकाल दिया ओह यार क्या चूत थी एकदम फूली हुई ओर पिंक कलर की मे तो दिवाना हो गया उनकी चूत का मैने पहली बार किसी लेडी को अपने सामने नंगा देखा था ओर मुझे पता चल गया था की चूत ऐसी होती है मेरे से रुका नही गया मैने अपना लंड बाहर निकाल लिया ओर सहलाने लगा.

Please Share this Blog: