आंटी बोलीं थोड़ा स्लोली दबाओ न

Spread the love

[ A+ ] /[ A- ]

Font Size » Large | Small


sex stories in hindi हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रितेश है, में लातूर (महाराष्ट्र) का रहने वाला हूँ। कुछ 6 महीने पहले मुंबई में अपनी बुआ के पास गया था और वहाँ से लौटते समय में ट्रेन आ रहा था और अपनी सीट पर बैठा था। फिर कुछ देर के बाद वहाँ पर कुछ लोग चढ़ गये और उसमें कहानी की हिरोइन भी थी। अब कुछ लोग उस आंटी को अपनी सीट देने के लिए कह रहे थे, लेकिन फिर एक आदमी ने अपने पास से थोड़ी जगह उसे दे दी। लेकिन अब वो मैनेज नहीं कर पा रही थी क्योंकि उसका बेटा भी था, जो कुछ 6 या 7 साल का था। फिर उसने अपने बेटे को उस आदमी के पास बैठा दिया और वो मेरे पास आ कर बैठ गयी, अब उस बर्थ के कुछ लोग सो चुके थे और कुछ जाग रहे थे।

फिर अचानक से उसने कहा कि आज मैंने किसी का लंड अपने हाथों में लिया है और उसे उसका नाम तक नहीं पता है, तो हम सब हंस पड़े। फिर मैंने उसे अपना नाम रितेश बताया और उन्होंने मुझे अपना नाम अंजलि बताया। अब में उनसे बात करते-करते उनके बूब्स जोर-जोर से दबा रहा था। फिर उसने कहा कि प्लीज़ थोड़ा स्लोली दबाओ ना, तो में मान गया और उसका एक बूब्स अपने मुँह में ले लिया। मुझे ऐसी फिलिंग पहले कभी नहीं आई थी, अब में बहुत जोश में आ गया था तो फिर मैंने उसके दोनों बूब्स को अपने मुँह में लेकर बहुत जोर से सक किया। अब उनके बूब्स पूरे लाल हो गये थे, जो कि बहुत गोरे थे। फिर उसने कहा कि अभी यहाँ यह सब करना ठीक नहीं रहेगा तुम मेरे घर आ सकते हो। तो मैंने कहा कि ठीक है लेकिन अभी थोड़ा सा कर लो, फिर मैंने उससे बहुत रिक्वेस्ट की, तो वो मान गयी और अपनी साड़ी ऊपर करने लगी।

फिर मैंने कहा कि रूको तुम मेरे लंड को अपने हाथों से बाहर निकालो, तो अब वो समझ गयी थी कि में क्या कहना चाहता था? और फिर धीरे-धीरे से मैंने उनकी साड़ी ऊपर कर दी। अब वो अपनी आँखे बहुत ही नशीली करने लग गयी थी और मेरा सिर पकड़कर मुझे अपने बूब्स के अंदर घुसा दिया और मौन करने लग गयी। अब में डर गया था और फिर मैंने उससे कहा कि आवाज़ मत निकालो प्लीज कोई जाग जाएगा। तो उसने कहा कि आई डोंट केयर प्लीज़ सक माई बूब्स, जब कोई लेडी या आंटी ऐसी रिक्वेस्ट करे तो कौन मना करेगा? अब में तो इतने जोश में था कि अब में उनकी पीठ से लेकर कूल्हों तक अपना हाथ फैरने लगा था। लेकिन अचानक से उसका बेबी जोर से रो पड़ा तो उसने अपने आपको ठीक कर लिया और जाने लगी, तो मैंने नहीं कहा अब क्या होगा?

loading...

तो उसने कहा कि जब घर पहुँच जाए तब कर लेना। वो भी लातूर की ही थी, जो मैंने उनसे बातों-बातों में पूछ लिया था और उसका पति पुणे सिटी में एक कंपनी में जॉब करता था। लेकिन अब मेरा मन नहीं लग रहा था, फिर हम अपनी-अपनी सीट पर बैठ गये और में दुखी हो गया। फिर उसने मुझे देखा और अपने कानों पर हाथ रखकर कहा कि सॉरी रितेश प्लीज़ समझा करो। तो फिर मैंने कहा कि ओके अंजलि डार्लिंग और जब सुबह हो गयी तब में और वो में एक साथ ट्रेन से उतर गये। फिर मैंने उनसे पूछा कि आपको कहाँ जाना है? और फिर हम एक ही ऑटो में बैठ गये। अब इतनी सुबह जगकर भी वो एकदम एंजल लग रही थी और वो ऑटो वाला भी उसे घूर रहा था, फिर हमने अपने नंबर एक्सचेंज कर लिए। फिर उन्होंने उनके पति को कॉल लगाया और कहा कि में घर पहुँच रही हूँ, वो मुंबई अपने किसी रिश्तेदार के यहाँ शादी में गयी थी।

अब मुझे तो उसको चोदने का बहुत मन कर रहा था, लेकिन में क्या कर सकता था? फिर में अपने घर पहुँचा और उसे वाट्सअप पर मैसेज कर दिया और उसे अपने लंड के कुछ फोटो सेंड कर दिए, तो उसने भी मुझे अपने बूब्स के कुछ फोटो सेंड कर दिए। अब में उससे वॉइस चैट कर रहा था, तो उसने अपनी प्यारी सी आवाज में मौन करके मुझे सेंड कर दी। तो मैंने कहा कि मुझे तुम्हारी प्यारी सी चूत के दर्शन कब मिलेगें? तो उसने कहा कि जब तुम चाहों, तो मैंने कह दिया कि कल सुबह। तो उसने कहा कि कल वो किसी रिश्तेदार को मिलने हॉस्पिटल जाने वाली है सॉरी। तो मैंने कहा कि फिर हॉस्पिटल से सीधा होटल कैसे रहेगा? तो उसने कहा कि पर्फेक्ट आइडिया लव यू। फिर में अपने घरवालो के साथ बात करके फ्रेश हो गया और होटल में एक रूम बुक करा लिया, जो कि मेरे दोस्त का पहचान वाला था।

फिर उसने होटल में आने में थोड़ी देर लगा दी और अपना मोबाईल स्विच ऑफ कर दिया। अब में तो नाराज़ हो गया था, लेकिन फिर उसने किसी अंजान नंबर से मुझे कॉल किया और कहा कि सॉरी मेरा मोबाईल स्विच ऑफ हो गया था, उसमें बैटरी कम थी। तो मैंने कहा कि इट’स ओके लेकिन कम फास्ट, तो उसने कहा कि में अभी आती हूँ। अब में बहुत एग्ज़ाइटेड था फिर मैंने मेरा लैपटॉप चालू किया और उसमें ब्लू मूवी देखना लगा और उसके आने का इंतजार करने लगा। फिर मुझे डोर बेल बजने की आवाज़ आई, तो मैंने डोर खोला लेकिन बाहर कोई नहीं था। अब में सोच रहा था कि कौन आया होगा? फिर मुझे दुबारा से डोर बेल बजने की आवाज़ आई तो मैंने इस बार दरवाजा नहीं खोला और एक बार फिर से बेल बजते ही मैंने दरवाजा ओपन कर दिया, तो मैंने देखा कि अब मेरे सामने वही अंजान आंटी थी। फिर उन्होंने कहा कि क्यों इंतजार नहीं हो रहा है? तो मैंने उसके कहते ही उन्हें अंदर खींच लिया और डोर लॉक कर दिया। फिर मैंने झट से उसकी साड़ी उतार दी और में अपने कपड़े भी उतारने लगा, वो बहुत हॉट और सेक्सी लग रही थी।

loading...

फिर मैंने जल्दी से उनका ब्लाउज और पेटीकोट भी उतार दिया। अब वो मेरे सामने काली ब्रा पेंटी में थी, दोस्तों अब वो क्या लग रही थी? उनके गोरे जिस्म पर काली ब्रा पेंटी बहुत मस्त लग रही थी। फिर मैंने उसे अपनी बाँहो में लेकर उसे बेड पर लेटा दिया और में उसके ऊपर आ गया और उसकी आँखो में देखने लगा। तो उसने कहा कि सिर्फ़ देखने के लिया बुलाया है क्या? तो अब में यह सुनते ही उसे स्मूच करने लगा और उसकी लिपस्टिक को सक करने लगा और उसकी ब्रा के ऊपर से ही जोर-जोर से उसके बूब्स प्रेस करने लगा। अब वो बहुत मदहोश हो गयी थी और अपने हाथ से मुझे अपने ऊपर खींचने लगी और कहा कि प्लीज़ मुझे आज खुश कर दो, मेरा पति सिर्फ़ नाम का ही पति है उनको पैसे के अलावा कुछ नज़र नहीं आता। तो मैंने कहा कि जान में हूँ ना फिर में उससे लिपट गया और उसके पैरो से लेकर बूब्स तक पागलों की तरह उसे चाटने लगा।

अब वो बेड को कसकर पकड़कर मौन करने लगी और सिस सिससस्स आअहह रितेश ह्ह्ह्ह कहने लगी थी। अब मुझे तो ऐसा जोश चढ़ गया था कि में जोर-जोर उसकी पूरी बॉडी को चाटने लगा था। अब उसने मुझे कसकर पकड़ लिया था, अब मेरे अंदर का हैवान जाग चुका था। फिर मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी, अब उसके 36 साईज के बूब्स मेरी आँखों के सामने थे और में उन्हें जोर-जोर दबा रहा था और चूस रहा था। अब वो मुझे कसकर हग करने लगी थी और मेरा सिर पकड़कर अपने बूब्स पर दबा रही थी। फिर धीरे-धीरे में नीचे की तरफ बढ़ा और मैंने झट से उसकी पेंटी भी पकड़कर उतार दी, वाऊ यार क्या चूत थी उसकी? उसकी चूत पर थोड़े-थोड़े बाल थे, लेकिन एकदम चिकनी चूत थी जैसे मेरे लिए ही बनाई हो। अब में उसे किस कर रहा था और उसकी नाभि पर और उसके आस पास अपना हाथ फैर रहा था। फिर थोड़ी देर के बाद में नीचे जन्नत की तरफ आ गया, फिर जब में अपना चेहरा उस जन्नत के दरवाजे के पास ले गया तो मुझे उसकी चूत से ऐसी खुशबू आई मानो बस सुंघता ही रहूँ।

फिर उसने कहा कि मेरी चूत को जोर-जोर से चूसो, चाटो और अपना पूरा लंड डाल दो। तो मैंने कहा कि कुछ इंतजार करो सब्र की चूत मीठी होती है और अपनी जीभ उसकी चूत के ऊपर रख दी। तो वो एकदम से उछल पड़ी और कहा कि प्लीज़ लीक इट और मैंने उसकी बात मानते हुए अपनी पूरी जीभ उसकी चूत के अंदर डाल दी। अब वो इतनी तेज चीखी की बस कोई सुन ले तो उसे चोदकर ही रहेगा। अब में और पागल हो गया था और अब वो मेरा सिर पकड़कर अपनी चूत के अंदर घुसा रही थी। अब में उसके दोनों पैरो को ऊपर करके उसकी चूत को चाटने लगा था। दोस्तों आपको अपनी जिंदगी में कभी चान्स मिले तो चूत जरुर चाटना आपको जन्नत जैसी फिलिंग मिलेगी, अब में उसकी चूत को चाटता जा रहा था। अब उसने अपने पैरो को फोल्ड कर दिया और तड़प रही थी और कहा कि प्लीज़ अब मुझसे और इंतजार नहीं होता है, अब अपना तूफ़ानी लंड मेरी चूत के अंदर डाल दो।

तो फिर मैंने अपना लम्बा, मोटा लंड उसकी गोरी चूत के ऊपर रख दिया और अपने लंड को उसकी चूत के ऊपर रगड़ने लगा। अब वो और भी मदहोश होने लगी थी और कहने लगी कि प्लीज़ रितेश तुम्हें मेरी कसम है डाल दो अंदर। अब ये मेरा पहले सेक्स था इसलिए में पूरे जी भर के हर मूवमेंट को जी भर के कर रहा था। फिर में उसकी ये हालत देखकर अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा। अब मेरा लंड अंदर नहीं जा रहा था तो मैंने उसकी चूत को और चाटकर पूरा गीला कर दिया, अब इसी बीच वो झड़ गयी थी। फिर मैंने अपने लंड को फिर से उसकी चूत पर रख दिया और इस बार मेरा थोड़ा सा लंड अंदर चला गया था। अब मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था तो मैंने उससे पूछा कि तुमने कभी सेक्स किया है या नहीं। तो उसने कहा कि किसके साथ करती? उसका पति तो सिर्फ़ छुट्टी या कुछ जरुरी काम रहने पर ही घर आता था। उस आंटी कि उम्र लगभग 30 या 31 साल थी, फिर मैंने उसकी दोनों टांगे अपने कंधो पर रख दी और अपना लंड उसकी चूत पर रखकर फिर से ट्राई की, तो इस बार मेरा आधा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया।

अब वो चिल्लाने लगी थी, अब मैंने उसे हग करके टाईट पकड़ रखा था और अपने लिप से उसके लिप को लॉक कर दिया और फिर से अपने मकसद में व्यस्त हो गया। अब इस बार मैंने एक जोरदार झटका मारा और मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया। अब वो चीख भी नहीं पा रही थी क्योंकि उसके लिप पर में ज़ोर से किस कर रह था। फिर मैंने उसे 35 मिनट तक चोदा, अब वो दो बार झड़ गयी थी और फिर मैंने अपना वीर्य उसकी चूत के अंदर ही छोड़ दिया क्योंकि उसने ही मुझसे कहा था। फिर थोड़ी देर तक आराम करके में उसे दुबारा किस करने लगा। तो उसने कहा कि अब काफ़ी देर हो चुकी है, तो में जल्दी-जल्दी उसकी चूत में अपना लंड डालकर उसे चोदने लगा और 5 मिनट में ही झड़ गया। फिर हमने शॉवर लेकर अपने-अपने कपड़े पहन लिए और घर चले गये। अब आज भी हमें कोई मौका मिलता है तो हम सेक्स करते है।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *