मैडम ने मुझे पहचान लिया-1

Spread the love

[ A+ ] /[ A- ]

Font Size » Large | Small


hindi sex kahani हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम आदित्य है और में भी आप सभी की तरह नियमित पाठक हूँ। दोस्तों में आज बहुत सारी सेक्सी कहानियों को पढ़ने के बाद अपनी कहानी भी एक सच्ची घटना को लिखकर आप सभी की सेवा में भेजने जा रहा हूँ, जो कि मेरे जीवन में घटित हुई एक सच्ची कहानी मेरा अनुभव है। दोस्तों यह कहानी आज से तीन साल पहले शुरू हुई, जब में अपने किसी काम की वजह से अपने ही शहर के बाजार से अपने लिए कपड़े खरीदने एक दुकान पर गया हुआ था। दोस्तों मैंने देखा कि उस दुकान पर एक 35 साल की महिला बैठी हुई थी और उसको देखकर मुझे ऐसा लगा कि जैसे मैंने उसको पहले भी कहीं देखा था। अब में उसको बहुत ध्यान से देखते हुए सोचने लगा था और कुछ विचारों में डूबा हुआ था। फिर जैसे ही उस औरत की नजर मेरे ऊपर पड़ी, तब मैंने उसी समय अपनी नजर को घुमा लिया और फिर ऐसा चार-पांच बार हुआ। फिर जब में कुछ देर बाद उस दुकान से वापस आने लगा तभी उस महिला ने मुझसे पूछा कि मैंने आपको पहले कहीं देखा है? फिर उसी समय में भी बोल पड़ा कि हाँ मैंने भी आपको पहले कहीं देखा है में इतनी देर से वहीं बात सोच रहा था। अब उस महिला ने मुझसे मेरा नाम पूछा, तब मैंने कहा कि मेरा नाम आदित्य है और तभी वो महिला मुस्कुराते हुए बोली।

महिला : आदित्य, तू इतना बड़ा हो गया।

में : माफ करना मेडम, लेकिन मैंने आपको अभी तक नहीं पहचाना।

loading...

महिला : हाँ तू मुझे पहचानेगा भी कैसे? आज पूरे सात साल के बाद जो मुझे तू देख रहा है।

में : आप हो कौन यह तो मुझे भी बताओ?

महिला : मेरा नाम सरिता है, में तुझे सात साल पहले 9वीं की कोचिंग पढ़ाती थी।

loading...

अब मुझे तुरंत याद आ गया और मैंने उनको कहा कि मेडम आप इतने सालों के बाद आज मुझे यहाँ दिखाई दी है, आप आज तक कहाँ थी? तब मेडम कहने लगी कि में तुझे सब कुछ बताउंगी, पहले मुझे मेरे घर तक छोड़ो। फिर मैंने अपनी मोटरसाईकिल पर मेडम को बैठाया और उनसे पूछा कि आपके घर में तो सात साल से में ताला लगा देख रहूँ, आप कहाँ रह रही हो। अब मेडम बोली कि में कल ही अपने मयके कानपुर से सात साल के बाद आई हूँ, सात साल पहले मेरे पति की मौत के बाद से में अपने मयके में ही थी। अब इधर-उधर की बातें करते हुए मेडम का घर भी आ ही गया और मेडम मुझसे बोली कि मोटरसाईकिल खड़ी कर दो चाय पीकर जाना। अब में मोटरसाईकिल को स्टेंड पर खड़ा करके मेडम के घर के अंदर चला गया। फिर मैंने अंदर जाकर मेडम से पूछा कि सात साल के बाद यहाँ आने का आपका अब मकसद क्या है? तब मेडम बोली कि इस घर की कीमत लाखों रुपए है यहाँ एक या दो साल रहने के बाद इस घर को बेच दूंगी, जब तक किसी स्कूल में पढ़ाऊँगी। अब बातें करते-करते चाय भी बन चुकी थी, तब मैंने चाय पीते हुए मेडम से कहा कि मेडम अगर आपको किसी भी चीज़ की ज़रूरत पड़े, तो आप मुझे बुला लेना।

फिर मेडम बोली कि तुम मुझे अपना मोबाईल नंबर दे दो, क्योंकि मुझे अब ज़रूरत तो पड़नी है मुझे इस घर की सफाई भी करनी है और कोई स्कूल भी देखना है में जिसमे जाकर पढ़ा सकूँ। फिर उसी समय मैंने कहा कि हाँ ठीक है, में आपके घर की सफाई करवा दूंगा। अब मेडम मुझसे पूछने लगी कि कब करवाओगे? तब मैंने कहा कि में अपने घर पर अपने कपड़े रखकर अभी आता हूँ उसके बाद शुरू करते है। फिर में यह बात कहकर उठा और अपने घर जाने लगा, मेडम बोली कि जल्दी आना, मैंने कहाँ कि हाँ ठीक है बस में कुछ देर में वापस आया और में यह बात कहकर अपने घर की तरफ चल दिया। फिर जब में घर से वापस आया, तब मैंने देखा कि मेरी वो मेडम उस समय बस ब्लाउज और पेटिकोट में काम कर रही थी और मुझे देखकर मेडम मुझसे बोली कि जल्दी से आजा। अब में अपनी शर्ट उतारकर उनके साथ काम करने लगा, मैंने देखा कि उस समय मेडम पसीने से पूरी भीगी हुई थी, जिसकी वजह से उनके भीगे हुए ब्लाउज से उनके बूब्स का उभार मुझे साफ-साफ नज़र आ रहा था। फिर में चकित होकर बड़े ध्यान से उनकी गोरी उभरी हुई छाती को देखने लगा, बार बार मेरी नजर वहीं जा रही थी। तभी मेडम पूछने लगी कि ऐसे घूरकर क्या देख रहा है? तब मैंने कहा कि कुछ नहीं मेडम। फिर मेडम बोली कि कुछ तो है और वो मुस्कुराने लगी।

फिर कुछ देर काम करने के बाद मैंने हिम्मत करके मेडम से कहा कि आप बहुत सुंदर है। अब मेडम हंसते हुए कहने कि तू पहले भी बहुत शरारती था और आज भी है। दोस्तों अब तक दोपहर के करीब दो बज चुके थे, मेडम कहने लगी कि मुझे भूख लगी है बाहर से कुछ खाने के लिए ले आओ में तुम्हें पैसे देती हूँ। फिर मैंने कहा कि मेडम आप क्यों दोगी? में आपका छात्र हूँ में दे दूँगा और फिर में यह बात उनको कहकर चला गया। फिर करीब तीस मिनट के बाद जब में वापस आया और मैंने दरवाजा खोला तब देखा कि मेडम सोफे पर लेटकर आराम कर रही थी। अब में उनके बूब्स को ब्लाउज के ऊपर से महसूस कर रहा था और जब मैंने उनके पैरों की तरफ देखा, तो उन्होंने अपना एक पैर घुटने से मोड़ा हुआ था। फिर में उनके पैरों की तरफ गया और उनके पेटीकोट के अंदर झाककर देखने लगा। अब मुझे मेडम की गोरी गदराई हुई जांघे और गुलाबी रंग की पेंटी नजर आ रही थी। फिर मैंने थोड़ी सी हिम्मत करके मेडम के पेटिकोट को पकड़कर थोड़ा सा ऊपर उठा दिया और अब में उनकी जांघो को सहलाने लगा, लेकिन मेडम की तरफ से बिल्कुल भी हलचल को ना देखकर मेरी हिम्मत पहले से ज्यादा बढ़ गई। फिर मैंने हिम्मत करके उनकी पेंटी को हाथ लगाया, मेरा हाथ लगते ही मेडम उठ गयी और कहने लगी कि तू यह क्या कर रहा है?

अब मेरा चेहरा शरम से लाल हो चुका था, मेरे मुँह से कोई भी आवाज़ नहीं निकल रही थी। फिर मेडम मुस्कुराते हुए बोली कि तू बहुत शरारती हो गया है, चल खाना खा ले और उसके बाद हम काम करते है। फिर खाने के बाद हम दोनों दोबारा अपने काम में लग गये, समय ऐसे ही गुज़रता चला गया और उस समय रात के 9 बज रहे थे। अब मुझे आश्चर्य इस बात का था कि कि में बड़ी देर से बिल्कुल भी नहीं बोला था। फिर जब मेडम ने घड़ी की तरफ देखा तब वो मुझसे कहने लगी कि 9 बज गये और हमारा यह काम अभी भी पूरा ख़त्म नहीं हो सका, मुझे रात को 11-12 बजे तक अकेले ही लगकर काम करना पड़ेगा, अगर तुम रुक सकते हो तो रुक जाओ। अब मैंने कहा कि हाँ ठीक है, मेडम में अपने घर फ़ोन करके बता दूंगा कि में अपने दोस्त के घर हूँ और कल सुबह तक वापस आ जाऊंगा। फिर मेडम बोली कि हाँ ठीक है और फिर हम दोनों ने 11 बजे तक सारा काम ख़त्म कर लिया और उसके बाद मेडम मुझसे बोली कि में नहाकर अभी आती हूँ उसके बाद हम सो जाएंगे, मुझसे यह बात कहकर मेडम नहाने बाथरूम में चली गयी। फिर जब वो नहाकर वापस आई तब मैंने देखा कि वो एक पारदर्शी नाइटी पहने हुए थी।

दोस्तों में आप सभी को अपनी मैडम के शरीर के बारे में भी बता दूँ, मेडम का रंग गोरा, बूब्स का आकार करीब 36 इंच कमर 30 और गांड 38 इंच। फिर जब वो नहाकर आई, उस समय मैंने देखा कि मेडम की आँखों में एक अलग सी चमक मुझे नजर आ रही थी। अब मेडम मुझसे बोली कि आदित्य तू भी नहा ले और में भी तुरंत उसी समय नहाने चला गया। फिर जब में नहाकर वापस आया अब मेरा अंडरवियर भीग जाने की वजह से उस समय में सिर्फ़ टावल में था। फिर जब में मेडम के बेडरूम के पास आया, तब मेडम कहने लगी कि सारे घर में सामान फैला हुआ है, तुम भी इसी पलंग पर लेट जाओ। फिर में मेडम के बेडरूम में गया और अपनी तिरछी नजर से देखा कि मेडम की नाइटी उनके घुटनों के ऊपर थी। अब यह द्रश्य देखकर मेरा सात इंच का लंड खड़ा हो गया था, उसको मेडम ने देख लिया था। फिर में चुपचाप मेडम की तरफ अपनी पीठ करके लेट गया, लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी और में बस अपनी दोनों आँखों को बंद करके लेटा रहा। फिर करीब एक घंटे के बाद मेडम ने मुझे आवाज दी, लेकिन में कुछ नहीं बोला। अब में यह बात सोचने लगा था कि मेडम इस समय मुझे आवाज क्यों दे रही है? तभी मेडम ने मेरी तरफ अपनी करवट लेकर मेरे ऊपर अपना एक हाथ रख दिया और वो मेरे लंड को टटोलने लगी।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *