चूत की प्यास आखिर मैंने बुझा ही दी-1

Spread the love

[ A+ ] /[ A- ]

Font Size » Large | Small


desi sex stories हैल्लो दोस्तों, सभी भाभियों लड़कियों आंटियों और सभी चूत वालियों को मेरे लंड का नमस्कार। दोस्तों अपनी एक और नयी सच्ची घटना को लेकर आया हूँ। दोस्तों भाभी के चले जाने के बाद हमारे पड़ोस में नयी पड़ोसन आई और मैंने उसको कैसे चोदा? अब आप सभी वो घटना पूरी तरह विस्तार से सुन लीजिए। दोस्तों अब तक मैंने करीब 10-12 लड़की और औरत की चूत चोद चुका हूँ, मैंने अब तक जितनी भी लड़कियों और औरतों को चोदा है, वो सब मेरे लंड की चुदाई से बहुत खुश हुई है और अब जब भी मौका मिलता है, वो सब दोबारा से अपनी चूत को चुदवाने के लिए खोल देती है और कहती है कि सैम आओ ना, बहुत दिन हो गये है तुम्हारे लंड के धक्के खाए हुए, प्लीज़ मुझे चोदो, मेरी चूत चोद-चोदकर भोसड़ा बना दो। फिर में भी मौका मिलते ही उनकी चूत चोदता हूँ और उनकी लंड की भूख को मिटाता हूँ। दोस्तों इनमे से कुछ औरतें हमारे पड़ोस में रहती है और मौका निकालकर मेरे घर आकर अपनी चूत को मेरे लंड से चुदवाकर भोसड़ा बनाती है।

फिर एक बार बहुत ही सुंदर करीब 24-25 साल की मेरी नयी पड़ोसन मुझे नजर आ गई, उसका नाम नेहा है, वो एक शादीशुदा औरत है और वो औरत इसलिए की वो वर्जिन नहीं, लेकिन शादीशुदा भी नहीं है। फिर वो जब भी किसी से बात करती तो मुस्कुराती रहती है, उसके बूब्स का आकार 36-25-38 है और उसकी लम्बाई करीब 5.5 इंच है। फिर कभी कभी जब में उसके घर या वो मेरे घर आती और जब मुझसे बातें करती है, तब वो अपनी साड़ी के ऊपर से ही अपनी चूत को सहलाती है, देखकर ऐसा लगता है कि जैसे उसकी चूत में हमेशा खुजली हो रही हो और वो लंड खाना चाहती हो। दोस्तों उसकी वो हरकते देखकर कभी-कभी तो मेरा मन भी करता है कि में उसको उसी समय पटककर अपना लंड उसकी चूत में डाल दूँ और उसकी कसकर जबर्दस्त चुदाई के मज़े लूँ जिसकी वजह से उसकी चूत की सारी गरमी शांत हो जाए। फिर वो जब भी चलती है तो उसकी कमर में एक गजब का बल आता है और उसकी चाल को देखकर किसी भी मर्द का लंड खड़ा हो जाता, क्योंकि नेहा बहुत ही सेक्सी लगती है। दोस्तों नेहा को कंप्यूटर चलाना आता है, लेकिन वो कंप्यूटर को चलाने में इतनी अनुभवी नहीं है, वो कभी-कभी मुझसे कंप्यूटर के बारे में पूछती रहती थी और में हमेशा उसको कंप्यूटर के बारे में बताता रहता और इस तरह से हम लोग बहुत पास-पास आ चुके थे।

एक दिन उसने मुझसे कॉपी और पेस्ट के बारे में पूछा, तब में उसकी कुर्सी के पीछे खड़े होकर उसको कॉपी और पेस्ट के बारे में बताने लगा था और उस समय हम लोग उसके कमरे में बिल्कुल अकेले थे। अब में नेहा की कुर्सी के पीछे से जाकर उसके चेहरे के पास अपना मुँह ले जाकर उसको कॉपी और पेस्ट के बारे में समझा रहा था। अब नेहा मेरे कहने के हिसाब से काम करने लगी थी, उसने पहले एक ब्लॉक को कट किया और फिर पूछने लगी कि अब कैसे पेस्ट किया जाना है? और वो अचानक से मेरी तरफ मुड़ी जिसकी वजह से उसके होंठ मेरे गाल से छु गये। अब नेहा सिर्फ़ मुस्कुराई और मैंने पीछे से उसको अपनी बाहों में ले लिया और उसकी गर्दन और गाल पर चुम्मा दे दिया। फिर में नेहा की चूत का मज़ा लेना चाहता था और मैंने उसको पूछा क्या घर में कोई नहीं है? तब उसने कहा कि रात तक आएँगे, सभी लोग शादी में गये है और इसलिए में घर में अकेली हूँ। फिर वो मेरे पास आई, मैंने उसको पकड़कर उसका दोबारा से चुम्मा ले लिया। अब मेरे चुम्मा लेने की वजह से वो गरम हो चुकी थी और वो झट से मुझसे लिपट गयी। फिर मैंने उसको और भी ज़ोर से अपने से लिपटा लिया और मैंने उसके बूब्स को उसकी साड़ी और ब्लाउज के ऊपर से पकड़ लिया था।

loading...

अब नेहा इस वजह से छटपटाने लगी और वो मुझसे और ज़ोर से लिपट गयी। फिर मैंने तुरंत ही मौका पाकर अपनी पेंट की चैन को खोलकर अपना आठ इंच का खड़ा लंड उसके हाथों में पकड़ा दिया। फिर उसने पहले तो कुछ आनाकानी करना शुरू किया और फिर कुछ देर बाद मेरा खड़ा लंड अपने हाथों में ले लिया। अब उसको मेरा लंड देखने और पकड़ने से बहुत अच्छा लग रहा था, क्योंकि अभी तक उसकी चूत चुदी नहीं थी। फिर उसी समय मुझे घर का मुख्य दरवाजा खोलने की आवाज सुनाई दी, तब हम लोग अपने कपड़े ठीकठाक करके चुपचाप बैठ गये। अब मैंने देखा कि मेरी माँ उसके घर आ गयी और वो बोली कि नेहा कहाँ हो? में घबरा गया था और खिड़की से कूदकर तुरंत अपने घर पहुँच गया। फिर उसने अपने घर से अगले दिन मेरे मोबाईल पर फोन किया और कहा कि आज घर पर कोई नहीं है, बस उसकी छोटी बहन है, तुम आओगे ना? तब मैंने अपने सब काम खत्म करके नेहा को फोन किया, उसकी छोटी बहन ने फोन उठाया, मैंने उसको फोन पर बुलाया और वो फोन पर आ गयी। फिर उसने मुझसे पूछा कि कहाँ हो? तब मैंने कहा कि में इस समय फ्री हूँ और इसलिए में तुमको फोन कर रहा हूँ।

फिर मैंने उसको पूछा कि तुम क्या कर रही हो? तब उसने बताया कि वो मुर्गा बना रही है। फिर उसने मुझसे पूछा क्या तुम मेरे घर पर दोपहर का खाना खाओगे? तब मैंने झट से हाँ कह दिया और में नेहा के घर चला गया। फिर मैंने नेहा के घर की घंटी को बजाया, तब उसकी बहन ने दरवाजा खोला और उसकी छोटी बहन मुझे बैठक वाले कमरे में बैठाकर अपनी दीदी को बुलाकर अपने कमरे में जाकर टी.वी देखने लगी। फिर नेहा मेरे पास आई और मुझे उसने ठंडा पीने को दिया, मैंने ठंडा नेहा के हाथ से लेते समय उसके हाथ को अपने हाथ में लेकर धीरे से दबा दिया। फिर नेहा ने धीरे से कहा कि प्लीज़ अभी कुछ मत करो, मेरी बहन घर पर है और वो कभी भी इस कमरे आ सकती है। अब वो अपनी बहन के कमरे में गयी और उसको किसी बहाने से उसने पास की दुकान से कुछ लाने के लिए भेज दिया। फिर जैसे ही उसकी बहन दुकान के लिए घर से निकली, तब वो नेहा मेरे पास आ गयी और मुझसे लिपट गयी और वो मुझे पागलों की तरह चूमने लगी। फिर मैंने भी नेहा को अपने से लिपटा लिया और में उसके गोरे गालों को चूमने लगा और उसके बूब्स को ब्लाउज के ऊपर से मसलने लगा।

अब नेहा भी गरम होकर अपना एक हाथ मेरी पेंट की चैन के पास लाकर मेरे लंड को अपने हाथों से सहलाने लगी थी और मेरी आँखों में झाककर मुस्कुराते हुए बोली कि कैसे हो बाबू जी? कुछ हो रहा है क्या? तब में उसको बोला कि यह बंदा अब आपका गुलाम है, आप जो चाहे करो जी। फिर नेहा धीरे से मुस्कुराकर अपने हाथों से मेरे लंड को मेरी पेंट ऊपर से मसलने लगी और बोली कि हाँ में भी अब आज से बस तुम्हारी ही हूँ और इसलिए मुझे चूमना और मेरे बूब्स को मसलना यह सब तेरा काम है। फिर वो मुझसे बोली कि प्लीज़ मेरे बूब्स को और ज़ोर से दबाओ, मुझे बहुत मस्त मज़ा आ रहा है, मुझे एक अजीब सा नशा आ रहा है, हाँ तुम मेरे बूब्स को ऐसे ही दबाते रहो और अब मेरी चूत में कुछ-कुछ हो रहा है, तुम्हारा तो लंड भी अब खड़ा हो गया है। अब तुम इसका क्या करोगे? तब मैंने उसको चूमते हुए कहा कि हाँ में तुम्हारे बूब्स को दबाते-दबाते बहुत गरम हो गया हूँ और इसलिए मेरा लंड खड़ा हो गया है और अब में तुम्हे बिना चोदे नहीं छोड़ सकता हूँ। अब तुम जल्दी से अपने कपड़े उतारकर पूरी नंगी हो जाओ और बिस्तर पर अपने दोनों पैरों को पूरा फैलाकर लेट जाओ, क्योंकि में अब अपना लंड तुम्हारी चूत में डालना चाहता हूँ और अपने लंड को शांति देना चाहता हूँ।

loading...


Spread the love

57 thoughts on “चूत की प्यास आखिर मैंने बुझा ही दी-1”

  1. Excellent beat ! I would like to appentice
    while you ameend your web site, hoow can i suubscribe for a blog website?
    The accopunt aided me a acceptable deal. I had been a little bit acquainted of this
    your broadcadt offered bright clear idea

  2. Link exchange is nothing else but it is simply placing the other person’s web site link on your page at suitable place and
    other person will also do similar in favor of you.

  3. The internet has tons of free sites where you can practice “winning. The spacious hotel can accommodate up to 45,000 people. Please be sure to confirm all information directly with the casino.

  4. Heya i am for the first time here. I found this board and I to find It truly
    helpful & it helped me out a lot. I am hoping to give one thing
    again and aid others like you helped me.

  5. It is perfect time to make some plans for the longer term and it is time to be happy.
    I’ve learn this put up and if I could I want to recommend you some fascinating things or advice.

    Maybe you can write subsequent articles referring to this article.
    I wish to learn more issues approximately it!

  6. Hey exceptional website! Does running a blog
    like this require a great deal of work? I’ve very little knowledge
    of programming but I was hoping to start my own blog soon. Anyways, should you have any recommendations
    or techniques for new blog owners please share.

    I understand this is off topic but I just had to ask.
    Appreciate it!

  7. I’m impressed, I must say. Rarely do I come across
    a blog that’s both equally educative and interesting, andd without a
    doubt, you have hit the nail on the head. Thhe issue is something that not enough folks are speaking intelligently about.
    I’m very happy that I stumbled across this during my hunt for something relating to this.

  8. You arre sso interesting! I don’t think I’ve read something like that before.
    So nice to find someone ith sme original thoughts on this issue.
    Seriously.. many thanmks for starting this up. This web siite is something that’s needed on the web, someone with some
    originality!

  9. It’s a pity you don’t have a donate button! I’d without a doubt
    donate to this brilliant blog! I suppose for now i’ll settle for book-marking and
    adding your RSS feed to my Google account. I look forward to brand new updates and will talk about this
    blog with my Facebook group. Talk soon! Maglie Manchester united Bambino

  10. Good day! I could have swlrn I’ve been tto this blog before but after browsing through many
    of the posts I realized it’s new to me. Nonetheless, I’m definitely delighted I stumbled upon it and I’ll be book-marking iit
    and checking back frequently!

  11. After looking at a few of tthe articles oon your website, I seriously like your way of blogging.
    I bookmarked it to my bkokmark site list and will be
    checking back in the near future. Please visit my web site too and tell me what you think.

  12. Have yyou ever thought about writing an e-book orr guest authoring on other websites?
    I have a blog centered on the same information you
    discuss and would loove to have you share some stories/information. I know my readers would
    enjoy yur work. If you’re even remotely interested, feel free to shoot me ann e-mail.

  13. I really like your blog.. very nice colors & theme. Did you create
    this website yourself or did you hire someone to do it for
    you? Plz reply as I’m looking to create mmy own blog and wouhld
    like to find out where u goot this from. thanks

  14. Hi there! This is my first visit to your blog! We are a collectiln of volunteers and
    starting a neew project in a communiity in the same niche.

    Your blog provided uus beneficial information to work on. You have done a wonderful job!

  15. This design is incredible! You certainly know how to keep a reader entertained.
    Between your wit and your videos, I waas almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!) Excellent job.
    I really loved what you had to say, and more than that, how you presented it.
    Too cool!

  16. I’m really enjoying the design andd layout of yourr website.
    It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjyable
    forr me to come here and visit more often. Did you hire oout a developer too create your theme?
    Fantastic work!

  17. Hello! This is my first comment here so I just wnted to give a quick
    shout out and say I genuinely enjoy reading your blog
    posts. Caan you recopmmend any other blogs/websites/forums that deal wth
    the same topics? Thanks a lot!

  18. Thankis on your marvelous posting! I actually enjoyed reading it, you could be a great author.
    I will make sure to bookmark yolur blog and will often come back later on. I want to encourage you to definitely continue your
    grezt work, have a nice holijday weekend!

  19. Write more, thats all I have to say. Literally, it seems as though you relied on the vudeo to make your point.
    You clearly know what youre talking about, why throw
    away your intelligence on just posting videos to your weblog when you could bee giving us something enlightening to read?

  20. I do not know whether it’s just me or iff everybody else experiencing issues wikth your blog.
    It appears like some of the text on your posts are running off the screen. Can someone else please
    provide feedback and lett me knnow if this is happesning too them as well?
    This could be a problem with my browser because I’ve hadd this happen previously.
    Appreciage it

  21. Aw, this was an incredibly good post. Taking a few minutes and actual
    effort to make a superb article… but what can I say… I hesitate a lot and don’t
    seem to get nearly anything done.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *