क्या यार क्या माल थी वो?-3

Spread the love

[ A+ ] /[ A- ]

Font Size » Large | Small


desi chudai ki kahani: फिर भाभी मुझसे बोली कि रुको विकास और में तुरंत रुक गया। फिर वो मुझसे थोड़ा उदास होकर बोली कि शर्मा जी के अलावा मैंने कभी किसी और के बारे में कुछ नहीं सोचा, लेकिन आज तुमने मुझसे यह सब सवाल पूछकर मेरी सेक्स की इच्छा को और भी बड़ा दिया है और जिसको में अब तक अपने ऊपर कंट्रोल करके बैठी हुई थी, में हमेशा अपने पति के आने पर उनके साथ बहुत खुश रहती हूँ, लेकिन उनके बाहर चले जाने पर में अपने आपको बहुत अकेला महसूस करती हूँ और में अपनी सेक्स की आग से अंदर ही अंदर जलती रहती हूँ, लेकिन मैंने अब तक किसी को भी अपने मन की बात नहीं बताई। में हमेशा बिल्कुल शांत रही और उस आग में जलती रही तड़पती रही। दोस्तों में उसकी बात जैसे ही खत्म हुई तुरंत उससे बोला कि सपना में हूँ ना तुम्हारे पास, तुम्हारी सभी इच्छा को पूरा करने के लिए, तुम क्यों इतना परेशान होती हो और में तुम्हें बहुत प्यार करूंगा। फिर भाभी बोली कि हाँ तो अब जल्दी से आ जाओ और में उनके होंठो पर किस करने लगा। करीब 15 मिनट तक हमने लगातार एक दूसरे को किस किया और कुछ देर बाद भाभी मुझसे थोड़ा दूर हटकर बोली कि अभी बस इतना ही बाकि जब कोई नहीं होगा तब हम करेंगे और में वहां से चला गया और छत पर जाकर भाभी के बारे में सोच सोचकर ना जाने कब सो गया। दोस्तों उसके बाद दूसरे दिन से हमारे बीच हंसी मजाक कुछ ज्यादा ही होने लगा, में हर कभी सही मौका देखकर भाभी को छेड़ दिया करता और उनके बूब्स को दबा देता, लेकिन भाभी मुझसे कुछ नहीं कहती बस मुस्कुराकर मुझे देखा करती और हंस हंसकर मुझसे बातें करती तो में हर कभी उन्हें किस करता और बहुत मज़े करता।

फिर कुछ दिन के बाद मेरे घर वाले वापस आ गये और में उनको स्टेशन छोड़कर वापस अपने कमरे पर आ गया और फिर थोड़ा सा थके होने की वजह से में खाना खाकर सोने चला गया, लेकिन मेरी इच्छा अब भी भाभी को चोदने की थी, लेकिन उस समय उनके घर पर कोई मेहमान आया हुआ था तो में सो गया। फिर रात को करीब एक बजे किसी ने मेरे कमरे का दरवाजा बजाया और मैंने जब उठकर देखा तो बाहर दरवाजे पर भाभी खड़ी हुई थी, वो मुझसे बोली कि क्यों सो गये क्या? मैंने कहा कि नहीं बस ऐसे ही लेटा हुआ था। फिर वो मुझसे बोली कि आ जाओ आज तुम्हारी जितनी इच्छा है उसे मुझे चोदकर पूरा कर लो, में उनकी बात को सुनकर तुरंत समझ गया कि आज भाभी को मुझसे अपनी चुदाई करवानी है और में जल्दी से उनके साथ उनके कमरे में चला गया और अंदर जाते ही मैंने उनको पीछे से तुरंत पकड़ लिया और उनको किस करने लगा तो वो भी मेरा पूरा पूरा साथ देने लगी। फिर में उनसे कहने लगा कि भाभी आज तेरी चूत को फाड़ दूँगा, में आज तेरी चूत को चोद चोदकर भोसड़ा बना दूंगा और तुम्हें मेरी चुदाई से बहुत खुश कर दूंगा और इस प्यासी तड़पती हुई चूत को बिल्कुल शांत कर दूंगा।

फिर वो मुझसे बोली कि हाँ मेरे राजा आज तू मुझे चोद चोदकर अपनी रंडी बना ले, मेरी चूत को वो सुख दे जिसके लिए में इतने दिनों से बैचेन हूँ क्योंकि तेरा भाई तो नामर्द है वो आज तक मुझे ठीक से चोद भी नहीं पाया है, लेकिन आज से में तेरी रंडी बन कर रहूंगी, तू मुझे हर कभी रात दिन चोद सकता है, में तुझसे कभी भी ना नहीं कहूंगी, लेकिन प्लीज अब जल्दी से मुझे चोद दे मुझे और ना तरसा। दोस्तों अब में उनको होंठो पर किस करने लगा और साथ साथ उनके ब्लाउज को उतारने लगा उसके बाद अपने एक हाथ से में उनके बूब्स को दबाने लगा और दूसरे हाथ से उनकी गांड को दबाने लगा तो वो मुझसे कहने लगी कि तू कितना सेक्सी है विकास, आज तू मुझे जी भरकर चोद और आज मुझे जन्नत दिखा दे। फिर मैंने एक ज़ोर का झटका देकर उनकी ब्रा को खींचकर उतार दिया और उनके एक बूब्स को चूसने तो दूसरे को दबाने, निचोड़ने लगा जिसकी वजह से वो वो भी पूरी तरह जोश में आकर मोन करने के साथ साथ मेरे सर को पकड़कर अपने बूब्स पर दबाने लगी और मुझसे कहने लगी कि हाँ उह्ह्ह्हह्ह आज इन्हें खा जाओ मेरे राजा आज से में तेरी रंडी हूँ आह्ह्हह्ह तू जब भी मुझसे बोलेगा में तुझसे चुदवाने को तैयार रहूंगी। अब मैंने उनके पेटीकोट को खोल दिया और मैंने देखा कि भाभी ने अंदर पेंटी नहीं पहनी थी और उनकी चूत एकदम साफ थी। में उनकी चिकनी चमकती हुई चूत में उंगली करने लगा और वो मेरे लंड को हाथ में पकड़कर सहलाने लगी, मुझे बड़ा अच्छा लगने लगा। फिर कुछ देर बाद मैंने उनसे कहा कि भाभी मेरा लंड अपने मुहं में लो ना, वो तुरंत बोली कि में कब से इसे मुहं में लेने को उत्सुक होकर बैठी थी। मैंने बोला कि हाँ तो जल्दी से लो ना मेरी जान।

अब वो झट से नीचे अपने घुटनों के बल बैठकर मेरे लंड को धीरे धीरे अपने मुहं में लेने लगी और मेरी गोलियों के साथ खेलने लगी दोस्तों मेरा लंड थोड़ा मोटा और लंबा है इसलिए उसे पूरा अंदर लेने में बहुत मेहनत करनी पड़ रही थी, लेकिन उसने हार नहीं मानी और वो लगातार धीरे धीरे मेरे लंड को आगे पीछे करती रही और लोलीपोप की तरह चूसती रही। फिर कुछ देर बाद में उससे बोला कि सपना अब ऊपर आओ में तुम्हारी चूत को चूसता चाटता हूँ, वो अब भी मेरा लंड चूस रही थी और हम 69 पोजीशन में आ गये और करीब 20 मिनट तक हम 69 पोजीशन में रहे। अब भाभी मुझसे बोली कि विकास अब मुझसे रहा नहीं जाता, तू फाड़ दे मेरी चूत को, आज से में तेरी रंडी बनकर रहूंगी, अब थोड़ा जल्दी से चोद मुझे मादरचोद, मुझे और ना तड़पा। अब मैंने भाभी को सीधा लेटाकर उनकी चूत के मुहं पर अपना लंड रख दिया और फिर मैंने एक ज़ोर का धक्का लगा दिया, जिसकी वजह से मेरा आधा लंड भाभी की चूत में फिसलता हुआ अंदर चला गया और वो दर्द से चिल्लाने लगी, उह्ह्ह्हह् आईईईइ प्लीज बाहर निकालो अपना लंड उफफ्फ्फ्फ़ में मर जाउंगी स्सीईईइ प्लीज इसे बाहर करो, मुझे उईईईइ माँ बहुत दर्द हो रहा है, वो उस दर्द से बिन पानी की मछली की तरह तड़पने लगी, लेकिन मैंने उनकी एक भी बात नहीं सुनी और ना ही अपने लंड को बाहर निकाला।

दोस्तों वो वैसे ही चीखती, चिल्लाती रही और कुछ देर रुकने के बाद मैंने उनके होंठो पर अपने होंठो को रखकर उनको चूमते हुए सही मौका देखकर अपना दूसरा धक्का लगा दिया, जिसकी वजह से मेरा पूरा लंड उनकी चूत की गहराईयों में चला गया और उनकी आँखो से आंसू बाहर आने लगे थे और में कुछ देर रुकने के बाद धीरे धीरे अपने लंड को अंदर बाहर करने लगा। अब उनको भी थोड़ा मज़ा आने लगा और वो मुझसे बोली कि हाँ चोद मेरे राजा और ज़ोर से चोद उह्ह्हह्ह्ह्ह आज से में तेरी रंडी हूँ, तू जब चाहे तब मुझे चोदना, हाँ थोड़ा और अंदर डाल उह्ह्ह्ह जाने दे इसे पूरा अंदर और में लगातार धक्के लगाता रहा और पूरे कमरे में सिर्फ़ मेरे धक्कों से हमारे जिस्म के टकराने वाली आवाज आने लगी, फच फच फच और कुछ देर के धक्कों के बाद वो अब अकड़ने लगी और फिर वो झड़ गई, लेकिन मेरा नहीं हुआ था तो में अब भी धक्के देकर चोदता रहा। फिर में भी 15-20 धक्कों के बाद उनकी चूत के अंदर ही झड़ गया। मुझे उनके चेहरे से संतुष्टि साफ साफ नजर आ रही थी और वो मेरी चुदाई से बहुत खुश थी। दोस्तों उस रात को मैंने उन्हें रुक रुककर करीब चार बार चोदा। फिर हम सो गये। दोस्तों मैंने उन्हें इस तरह से उनका पति बनकर करीब एक साल तक रोज हर कभी चोदा और आज वो मेरे दो बच्चों की माँ बन गई, लेकिन उसके पति को आज तक नहीं पता कि उनके बच्चों का बाप में हूँ ।।

धन्यवाद …


Spread the love

22 thoughts on “क्या यार क्या माल थी वो?-3”

  1. I think this is among the most important info for me.
    And i’m glad reading your article. But want to remark on some general
    things, The site style is ideal, the articles is really
    excellent : D. Good job, cheers

  2. I feel that is among the most significant info for me. And i’m satisfied reading your article.
    However want to commentary on few general things, The site style is
    great, the articles is actually nice : D. Just right task, cheers

  3. I’m amazed, I have to admit. Rarely do I encounter a blog that’s
    both equally educative and entertaining, and let me
    tell you, you have hit the nail on the head.
    The issue is something that too few men and women are speaking intelligently about.
    I’m very happy that I found this in my hunt for something regarding this.

  4. Greetings! Quick question that’s completely off topic.

    Do you know how to make your site mobile friendly? My web site looks weird
    when viewing from my apple iphone. I’m trying to find a template or plugin that
    might be able to resolve this problem. If you
    have any suggestions, please share. With thanks!

  5. Do you mind if I quote a few of your articles as long as I provide credit
    and sources back to your blog? My website is
    in the very same niche as yours and my visitors would certainly benefit from a lot of the
    information you provide here. Please let me
    know if this okay with you. Regards!

  6. hello there and thank you for your information – I have definitely picked up anything new from right here.
    I did however expertise several technical points using
    this web site, since I experienced to reload the website many times previous to I could get it to
    load properly. I had been wondering if your web hosting is OK?
    Not that I am complaining, but slow loading instances times will often affect your placement
    in google and could damage your high-quality score if
    ads and marketing with Adwords. Anyway I’m adding this RSS to my email and can look out for a lot more of
    your respective interesting content. Make sure you update this again soon.

  7. You really make it appear so easy with your presentation but I to
    find this topic to be really one thing which I believe I’d by no means understand.
    It kind of feels too complicated and very large for me.
    I am having a look ahead on your subsequent put up,
    I’ll attempt to get the dangle of it!

  8. To follow up on the update of this topic on your web page and would want to let you know just how
    much I treasured the time you took to generate this
    helpful post. In the post, you really spoke of how to seriously
    handle this concern with all comfort. It would be my own pleasure to gather some more ideas from your
    blog and come up to offer people what I discovered from you.
    I appreciate your usual excellent effort.

  9. Thanks on your marvelous posting! I quite enjoyed reading it,
    you could be a great author.I will ensure that I bookmark your blog and will come
    back at some point. I want to encourage yourself
    to continue your great job, have a nice weekend!

  10. I wanted to thank you once more for your amazing site you have built here.
    It really is full of useful tips for those who are truly interested in this specific subject, primarily this very post.
    You really are all so sweet and also thoughtful of others as well as reading your
    blog posts is a superb delight in my experience. And thats
    a generous surprise! Tom and I usually have excitement making use of your tips in what we should do in a month’s time.
    Our listing is a kilometer long and tips will be put to great use.

  11. I’m honored to get a call coming from a friend immediately he identified the important
    ideas shared in your site. Going through your blog posting is a real fantastic experience.
    Many thanks for taking into account readers much like me, and I
    want for you the best of achievements as a professional
    in this field.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *